A Dream

They say Earth is raising her vibrations And we are Collectively heading Towards ascension I wish we get to see The new earth Where love gets its due And fear gets removed Where we make space for Bonds based on soul connect Where right or wrong gets replaced with What feels authentic and true WhereContinue reading “A Dream”

मुठ्ठी भर/ Fistful

एक बंद मुट्ठी में रुकी गीली मिट्टी जितनी ख्वाहिशें है कुछ ज़्यादा तो नहीं हर ख्वाहिश पूरी ही‌ हो ऐसी कोई शर्त नहीं बस ख्वाबों पर बंदिश ना हो मोहब्बत की कोई हद ना हो सरहदें ज़मीन से मिट ना भी सके तो कोई ग़म नहीं बस दिलों में लकीरों की गुंजाइश ना हो एकContinue reading “मुठ्ठी भर/ Fistful”